Our Latest News

  • मां कात्यायनी की पौराणिक कथा.. मां दुर्गा के इस स्वरूप की प्राचीन कथा इस प्रकार है कि एक प्रसिद्ध महर्षि जिनका नाम कात्यायन था, ने भगवती जगदम्बा को पुत्री के रूप में पाने के लिए उनकी कठिन तपस्या की. कई हजार वर्ष कठिन तपस्या के पश्चात् महर्षि कात्यायन के यहां देवी जगदम्बा ने पुत्री रूप में जन्म लिया और कात्यायनी कहलायीं. ये बहुत ही गुणवंती थीं. इनका प्रमुख गुण खोज करना था. इसीलिए वैज्ञानिक युग में देवी कात्यायनी का सर्वाधिक महत्व है. मां कात्यायनी अमोघ फलदायिनी हैं. इस दिन साधक का मन आज्ञा चक्र में स्थित रहता है. योग साधना में इस आज्ञा चक्र का अत्यंत महत्वपूर्ण स्थान है. इस दिन जातक का मन आज्ञा चक्र में स्थित होने के कारण मां कात्यायनी के सहज रूप से दर्शन प्राप्त होते हैं.
  • आज नवरात्रि का पांचवां दिन है और आज स्‍कंदमाता की पूजा की जाती है। मान्‍यता है कि स्‍कंदमाता की पूजा करने से मंदबुद्धि भी ज्ञानी हो जाता है। स्कंद कुमार यानी स्‍वामी कार्तिकेय की माता होने के कारण इन्हें स्कंदमाता नाम कहा जाता है। स्‍कंदमाता की गोद में उनके पुत्र स्‍कंद शोभायमान हैं। स्‍कंदमाता को मां दुर्गा का ममतामयी रूप माना गया है। ऐसा माना जाता है नवरात्र में मां इस का रूप की पूजा करने से मां संतान सुख का आशीर्वाद देती हैं।
  • कैसा है मां कूष्मांडा का स्वरूप ? मां कूष्मांडा की आठ भुजाएं हैं, इसलिए इन्हें अष्टभुजा भी कहा जाता है। इनके सात हाथों में क्रमशः कमण्डल, धनुष, बाण, कमल-पुष्प, अमृतपूर्ण कलश, चक्र तथा गदा हैं। वहीं आठवें हाथ में सभी सिद्धियों और निधियों को देने वाली जप माला है। मां कुष्मांडा को कुम्हड़े की बलि अति प्रिय है और संस्कृत में कुम्हड़े को कूष्मांडा कहते हैं। इसीलिए मां दुर्गा के इस रूप को कूष्मांडा कहा जाता है।
  • मां चंद्रघंटा का स्वरूप धर्म शास्त्रों के अनुसार, मां चंद्रघंटा ने राक्षसों के संहार के लिए अवतार लिया था। इनमें ब्रह्मा, विष्णु और महेश तीनों देवों की शक्तियां समाहित हैं। ये अपने हाथों में तलवार, त्रिशूल, धनुष व गदा धारण करती हैं। इनके माथे पर घंटे के आकार में अर्द्ध चंद्र विराजमान है। इसलिए ये चंद्रघंटा कहलाती हैं। भक्तों के लिए माता का ये स्वरूप सौम्य और शांत है।
  • मां ब्रह्मचारिणी का स्वरूप मां ब्रह्मचारिणी को ब्राह्मी भी कहा जाता है. ब्रह्म का अर्थ है तपस्या और चारिणी मतलब आचरण करने वाली यानी कि तप का आचरण करने वाली शक्ति. देवी के दाएं हाथ में जप की माला और बाएं हाथ में कमंडल है. भगवान शंकर को पति के रूप में पाने के लिए देवी ने कठोर तप किया था जिससे ये मां ब्रह्मचारिणी कहलाईं.
  • Maa Shailputri is the major and the absolute form of NavaDurga; since she was the wife to Lord Shiva and is known as Parvati. She took birth as the daughter of Lord Himalaya due to which she is named Shailputri – the daughter of mountains. Her deity has a half-moon on her forehead and holds a trident in her right hand & a lotus flower in her left hand. The Goddess can be seen seated on mount Nandi (bull). The embodiment of the power of Brahma, Vishnu, and Shiva, she rides a bull and carries a trident and a lotus in her two hands. In the previous birth, she was the daughter of Daksha, Sati. Once Daksha had organized a big Yagna and did not invite Shiva. But Sati being obstinate, reached there. Thereupon Daksha insulted Shiva. Sati could not tolerate the insult of her husband and burnt herself in the fire of Yagna. In other birth, she became the daughter of Himalaya in the name of Parvati - Hemavati and got married to Shiva. As per Upanishad, she had torn and the egotism of Indra, etc. Devtas. Being ashamed they bowed and prayed that, "In fact, thou are Shakti, we all (Brahma, Vishnu, and Shiva) are capable of getting Shakti from you." मां शैलपुत्री नवदुर्गा का प्रमुख और पूर्ण रूप है; चूंकि वह भगवान शिव की पत्नी थीं और उन्हें पार्वती के नाम से जाना जाता है। उन्होंने भगवान हिमालय की पुत्री के रूप में जन्म लिया जिसके कारण उनका नाम शैलपुत्री पड़ा - पहाड़ों की पुत्री। उनके माथे पर अर्धचंद्र है और उनके दाहिने हाथ में त्रिशूल और बाएं हाथ में कमल का फूल है। देवी को नंदी (बैल) पर्वत पर विराजमान देखा जा सकता है।ब्रह्मा, विष्णु और शिव की शक्ति का अवतार, वह एक बैल की सवारी करती है और अपने दोनों हाथों में एक त्रिशूल और एक कमल धारण करती है। पिछले जन्म में, वह दक्ष, सती की बेटी थीं। एक बार दक्ष ने एक बड़े यज्ञ का आयोजन किया और शिव को आमंत्रित नहीं किया। लेकिन सती हठी होकर वहां पहुंच गईं। तब दक्ष ने शिव का अपमान किया।सती अपने पति का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकीं और उन्होंने खुद को यज्ञ की आग में जला लिया। दूसरे जन्म में, वह पार्वती - हेमावती के नाम से हिमालय की पुत्री बनी और शिव से विवाह किया। उपनिषद के अनुसार उसने इन्द्र आदि देवताओं के अहंकार और अहंकार को फाड़ दिया था। लज्जित होकर उन्होंने प्रणाम किया और प्रार्थना की कि, "वास्तव में, आप शक्ति हैं, हम सभी (ब्रह्मा, विष्णु और शिव) आपसे शक्ति प्राप्त करने में सक्षम हैं।"
  • {IIT-JEE I NEET I NTSE I OLYMPIAD I NDA I FOUNDATION.} Admission Closed 2022-23 CBSE (10+2) Contact us-+91-9720206969 +91-9758218610
  • admission start of cricket academy and. {IIT-JEE I NEET I NTSE I OLYMPIAD I NDA I FOUNDATION.} NCC SPECIAL ENTRY 2022, Admission Open 2022-23 CBSE (10+2) ENROL NOW.. HURRY UP ! ONLY A FEW SEATS LEFT ! Contact us-+91-9720206969 +91-9758218610
  • {IIT-JEE I NEET I NTSE I OLYMPIAD I NDA I FOUNDATION.} NCC SPECIAL ENTRY 2022, Admission Open 2022-23 CBSE (10+2) ENROL NOW.. HURRY UP ! ONLY A FEW SEATS LEFT ! Contact us-+91-9720206969 +91-9758218610
  • {IIT-JEE I NEET I NTSE I OLYMPIAD I NDA I FOUNDATION.} NCC SPECIAL ENTRY 2022, Admission Open 2022-23 CBSE (10+2) ENROL NOW.. HURRY UP ! ONLY A FEW SEATS LEFT ! Contact us-+91-9720206969 +91-9758218610
  • {IIT-JEE I NEET I NTSE I OLYMPIAD I NDA I FOUNDATION.} NCC SPECIAL ENTRY 2022, Admission Open 2022-23 CBSE (10+2) ENROL NOW.. HURRY UP ! ONLY A FEW SEATS LEFT ! Contact us-+91-9720206969 +91-9758218610
  • {IIT-JEE I NEET I NTSE I OLYMPIAD I NDA I FOUNDATION.} Admission Open 2022-23 Contact us-+91-9720206969 +91-9758218610